परमात्म-अवतरण एवं कर्मयोग

No• 038 (A)        परमात्मअवतरण  एवं  कर्मयोग   

      पाँचवां     और   छठाा  अध्याय   

श्रीमदभगवदगीता  के  आज  के इस  सत्र  में ध्यान योग के  विषय में आगे के अध्यायों का वर्णन करेंगे  एक और  महत्त्वपूर्ण   प्रशन  जो  अर्जुन  पूछता  है कि  परमात्मा  के   अवतरण  को  कौन  देख  और समझ सकता है ?

                     भगवान ने कहा कि केवल तत्वदर्शी अर्थात् जिसने ज्ञान को समझा है , तत्व को समझा है और तपस्या के द्वारा जो  पवित्र बनते  हैं  वे दिन रात  भय  से मुक्त्त रहते  हैं , वह  मेरे इस जन्म को और  कर्म  को  देख   सकते  हैं  !  अर्थात्  वो  मेरा साक्षात्कार  कर   सकता  है  !  आत्म  साक्षात्कार करने वाला ही इस अविर्भाव को समझ पाता है कि परमात्मा  किस  अनुरागी  में  अवतरित  होते  हैं  ! परमात्मा  ने अपने अवतरण होने के विषय में और रहस्यों  को  स्पष्ट  किया है ! उसके  बाद जैसे आगे का  आशीर्वाद ,  भी  सूक्ष्म  में  समाया  हुआ  था ! भगवान  कहते  हैं  कि  हे  पार्थ !  जो  मुझे जितनी लगन  से  और  जैसे  भजन  करते  हैं अर्थात्  याद करते हैं , में भी  उनको उतना  ही सहयोग देता हूँ ! साधक  की  श्रद्धा ही उसके लिए कृपा बनकर उसे मिलती है ! अब यहाँ पर कई बार मनुष्य  के मन में प्रशन  उठता  है  कि भगवान  भी जैसे को तैसा करते हैं कि  जो  जितना  उसको याद  करेगा  उसी को मदद मिलेगी बाकी को मदद नहीं करेंगे ? यहाँ ये भाव नहीं है ! परमात्मा कभी भेद भाव नहीं कर सकता  है !  लेकिन  यहाँ  भाव  ये  है  कि जब हम ईश्वर  को  याद करते  हैं तो  हम अपने अन्दर  एक पात्रता विकसित  करते हैं !  जिसके अन्दर जितनी पात्रता होती है , उतनी  वो  परमात्मा की मदद को स्वीकार   करता   है   अर्थात्    ग्रहण   करता  है  ! परमात्मा  की  मदद  व  सहयोग  सारे  संसार  की आत्माओं  के लिए  है ! लेकिन  जितनी व्यक्ति की पात्रता होती है , उतनी ही वो उस शक्त्ति को अपने अन्दर  समा   सकते  है  !  वो   सहयोग  जीवन  में अनुभव कर सकता है ! कई  बार लोग पूछते हैं कि भगवान को याद करने से क्या फायदा होगा ?

                     भगवान को याद करने से हम अपने अन्दर वो पात्रता विकसित  करते है  जिससे उसके सहयोग  का  जीवन  में  अनुभव   कर  सकते  हैं ! भगवान ने फिर आगे कहा कि मेरे  अनुकूल बरतने वाले  लोग  इस  मनुष्य  शरीर  में दैवी संस्कारों को बलवती बनाते हैं और जीवन में कभी भी असफल नहीं होते हैं ! संसार में  भी जैसे  कहा जाता है  कि जिसके  जैसे संस्कार होते  हैं वैसे  ही  वो जीवन में आगे बढ़ता है ! जिसके  संस्कारों  में दिव्यता है वो दिव्यता  के आधार पर  अपने जीवन  को  सशक्त्त बनाते हैं और सफल  हो  जाते  हैं !  क्योंकि मनुष्य जीवन में  भय कब उत्पन्न  होता  है ?  जब  उसके जीवन  में  उसके  संस्कार , उसके  कर्म  सही  नहीं होते  हैं  तो  ऐसे  कर्म  उसको  भयभीत  करते हैं ! जितना  व्यक्त्ति  का  संस्कार  श्रेष्ठ  होता  है  और दिव्य होता है उतना वो भीतर से सशक्त्त होता है ! तो इस तरह एक  प्रकार का परमात्मा  का वरदान अनुभव कर सकते हैं ! जितना  हम अपने संस्कारों का दिव्यीकरण  करते हैं , उतना  ही हम  जीवन में सशक्त्त होकर आगे  बढ़ते हुए कभी असफल नहीं होते हैं !

Advertisements